सपना चौधरी कि सेकसी

सांसों की गांड मारी

सांसों की गांड मारी, मेरे मूह से ये बात सुनते ही वो दोनो अपनी कुर्सी' उठाकर बिल्कुल मेरे पास आ गये और भाभी उत्सुकता के साथ बोली. बहुत मजा आया मिनी. जीवन मजे लेने के लिए है. मुझे बड़ी खुशी है की तुमने आज किसी औरत को चोदने का नया अनुभव प्राप्त किया

तू भी ना ठीक से खड़ा भी नहीं हो सकता ले तू ही देख इसे मुझ से नहीं होता ये स्टार्ट कह कर माधुरी वहाँ से हाथ कर खड़ी होकर अपनी उखड़ी सांसें संभालने लगी. डॉली: पापा जी, आप क्या उलटा पुल्टा बोल रहे है? मैं जय से बहुत प्यार करती हूँ, उनको धोका नहीं दे सकती हूँ। आप अपनी सोच बदल लीजिए। आप नहीं जानते मुझे आपकी बात ने कितना दुखी किया है। और वह रोने लगी।

रॉकी तसले में खा रहा था , गुलबिया ने फिर थोड़ी और दारू उसके तसले में डाल दी। फिर सीधे बोतल अबकी मेरे मुंह में लगा दी। सांसों की गांड मारी उस दिन रात में मैं चंपा भाभी के दरवाजे के बाहर से सुन चुकी थी ,चंपा भाभी मेरी भाभी से कह रही थीं की वो और कामिनी भाभी दोनों मिल के मुट्ठी करेंगी , एक गांड में और दूसरी भाभी की बुर में।

सेक्सी पिक्चर हिंदी में चुदाई

  1. आबे साली रंडी, साली चुदाक्कड़ तेरी गांड है ही इतनी प्यारी की मेरा लंड समझने से भी नहीं समझता है और उसमें घुसने को ही करता है जब तू मुझसे चुत मरवा सकती तो गांड मरवाने में तेरी मां क्यों चुदती है राहुल बोला
  2. चम्पा- मैं हमेशा लण्ड लेने को तैयार हूँ। बहुत साल पहले एक साथ 5-5 आदमियों से चुदवाई थी उस दिन भी इतना मजा नहीं आया था। धीरे-धीरे चोदो… ब्लू पिक्चर भेजिए तो
  3. राज: अरे जिसे तुम बच्ची कह रही हो वह कार में एक बार फिर से मुझे मज़ा दी। चालू चीज़ है। जल्दी ही चोदूंग़ा उसे। छोड़ो उसे, तुम बताओ तुमको तो मज़ा आया ना डबल धमाके का? पूजा जो की योगेश के बाजू में ही बैठी थी उसने योगेश के पेंट की जीप खोल कर उसका लंड बाहर निकल लिया और उस पर हाथ आगे पीछे करते हुए बोली इसीलिए है तभी अपने माधुरी दीदी की गांड उनकी चुत से पहले मारी है
  4. सांसों की गांड मारी...योगेश और माधुरी के रूम में दाखिल होते ही मनीषा ने गैट लॉक कर दिया और घूर कर उन दोनों को देखने लगी वो दोनों समझ नहीं पाए की मनीषा उन्हें ऐसे क्यों देख रही है अब योगेश को पूछना ही पड़ा दीदी ऐसी क्या बात हो गई जो आपने खड़े पैर हमें वापस बुला लिया अरे हाँ पापा हमने बड़ा मज़ा किया. कोमल बहुत अच्छे दोस्त बन गयी है मेरी. इतने कम टाइम में वो मुझे बहुत कुछ सिखा गयी. वैसे, वो आपको बहुत पसंद करती है. उम्मीद है कि आपको भी भी कोमल पसंद होगी.
  5. भाभियाँ , उनकी हरकते देखकर मुश्किल से अपनी हंसी दबा पा रहा थीं , लेकिन उनके ऊपर कोई असर नहीं हो रहा था , उलटे उन्होंने सबकी हड़का लिया , ख़ास तौर से मेरी भाभी को , उस रात मैंने सरिता याने अपनी बीवी को जबदरस्त तरीक़े से चोदा। और ये सोचकर चोदा कि साधना को चोद रहा हूँ।

अजुन आर मेडा 2020 डाउनलोड

भैया का ये कह कर योगिता ने उसके और योगेश के बीच में हुई सारी बातें पूजा को बता दी ये सब सुन कर पूजा का मुंह हैरत से खुला का खुला रही गया लेकिन ये गलत है पाप है हम अपने सगे भाई से ही कैसे चुदाया सकती है पूजा बोली

ओह शिट रंगीला, इस डिस्कशन से मैं और गर्म होती जा रही हूँ. मेरी चूत से पानी टपकने लगा है. क्या टीम डॉली को चोदोगे रंगीला? उस दोपहर मैंने अपनी मां को अच्छा घंटे भर चोदा और चोद चोद कर उसकी चूत को ढीला कर दिया. आखिर पूरी तरह तृप्त होकर और झड़ कर जब मैं उसके बदन पर से उतरा तो मेरा झड़ा लंड पुच्च से उसकी गीली चिपचिपी बुर से निकल आया. अम्मा चुद कर जांघें फ़ैला कर अपनी अपनी चुदी बुर दिखाते हुए हांफ़ते हुए पड़ी थी.

सांसों की गांड मारी,पापा उठे और अपने लौड़े को दबाते हुए बोले: ओह सच में बड़ी स्वाद है तुम्हारी बुर और गाँड़ । वाह मज़ा आ गया।

योगेश अब उनकी उदासी का कारण समझ गया था ओ उन दोनों को ही समझता हुआ बोला तुम दोनों चिंता मत करो भले ही कुछ देर होगी लेकिन तुम दोनों की चुदाई बराबर होती रहेगी मैं कोई ना कोई रास्ता जरूर निकल लूँगा

तो ये रही मेरी भाभी के गांव में आप बीती। भाभी के देवर ने मेरे साथ क्या किया, या मैंने भाभी के देवर के साथ,भारतीय ओपन सेक्स वीडियो

कड़कते बादल के बीच मेरी चीख दब के रह गयी। तेज बरसते पानी की आवाज ,पेड़ों से गिरती पानी की धार और जमींन पर बहती पानी की आवाज के साथ मेरी चीखे और सिसकियाँ मिल घुल गयी थीं। मैं उससे और सट गयी और साफ-साफ जोबन को उभारकर अदा से बोली- खुलकर साफ-साफ बताओ ना… उसकी सांस मेरे सीने को देखकर तेज हो रही थी।

और उसका साथ बसंती ने दिया , हँसते हुए भाभी की माँ से बोली , अरे सही तो कह रही है , चन्दा। जब गांड मारी जायेगी आपकी इस बिटिया की न तो जाएगा तो पेट में ही , अरे ऊपर वाले मुंह से न सही , नीचे वाले मुंह से।

चल, कोई नही देखता। फिर सामने बैठी हुं, किसी को नजर भी नही आयेगा। देखुं तो सही, मेरे भाई का गन्ना आखिर, है कितना बडा ?,सांसों की गांड मारी राज ने उसे बेड पर बैठने का इशारा किया और वह सेफ़ खोला और उसमें से ज़ेवर के डिब्बे निकाल कर लाया। फिर उसने सब डिब्बे खोकर बिस्तर पर फैला दिए । रश्मि की आँखें फट गयीं इतने ज़ेवर देख कर।

News