மல்லு செஸ் வீடியோ

मा के साथ सेक्स

मा के साथ सेक्स, मानिषा ने शर्म के मारे अपना सर झुका रखा था । अपने बेटे की बात सुनते ही उसने नरेश को अपनी बाहों में भर लिया। तीनों सोमनाथ, धर्मवीर और पूजा लिफ्ट से न जाकर सीढ़ियों से चल रहे थे । आगे आगे सोमनाथ और पूजा थे पीछे पीछे धर्मवीर चल रहा था ।

और फिर काव्या के सामने रोड ब्रेकर की तरह उसका एब्स वाला पेट आया, जिसकी उँची नीची घाटियों मे जीभ चला कर उसने वहाँ का सारा नमक अपनी जीभ पर इकट्ठा कर लिया....और अपने होंठों से उसे बेतहाशा चूमने भी लगी.. पूजा का बदन बिल्कुल ऐसा था कि ना तो वह ज्यादा लंबी लगती थी और ना ही ज्यादा छोटी लगती थी मतलब मीडियम साइज की हाइट थी उसकी ऊपर से भरा हुआ बदन मतलब चलते हुए बिल्कुल चुदाई की मूरत लगती थी ।

और बाहर खड़ी हुई काव्या दूसरी बार झड़ने लगी और उसकी चूत के रस की बरसात नीचे पड़े हुए स्टूल के उपर फिर से होने लगी ... चिपचिपे पानी की बूँदों से भीगकर स्टूल पूरा गीला हो चुका था ... मा के साथ सेक्स और इतने करीब से अपने भाई के लंड को अपनी प्यारी सहेली की चूत में जाता हुआ देखकर वो भी पूरी तरह से उत्तेजित हो गयी और भाव विभोर होकर उसने उन दोनों के मिलन स्थल को चूम लिया, जिसमे एक ही बार में नितिन को अपने लंड और काव्या को अपनी चूत पर श्वेता के गीले होंठ महसूस हुए.

મટકા બજાર મટકા બજાર

  1. काव्या भी आज देखना चाहती थी की उसकी माँ किस हद तक जा सकती है...इसलिए वो भी ढीठ बनकर सोने का नाटक करती रही.
  2. लंड पर शराब की बूंदे फिसल कर उसकी बॉल्स तक आई और जैसे ही वो नीचे गिरने को हुई, रश्मि ने अपनी जीभ फैलाकर उसके टटटे चाट लिए...और वही नशीला स्वाद उसे अपने मुँह मे महसूस हुआ जो देवी लाल के मुँह से आ रहा था, ये भले ही रश्मि का पहला मौका था शराब चखने का, पर उसे ऐसा लग रहा था की वो बरसों से पीती आई है.. सेक्सी फिल्म जुदाई वाली
  3. दीदी यह देखो न यह क्या है मुझे समझ में नहीं आ रहा है, कंचन ने विजय से कहा आओ मेरे सामने आकर बैठो, मैं देखकर बताती हूँ । विजय बेड पर चढते हुए कंचन के सामने बैठ गया, विजय ने बैठते ही कंचन से कहा । उपासना - तैयार तो मैं पहले झटके के लिए भी नहीं थी लेकिन आपने वह भी लगाया ना, तो दूसरे के लिए क्यों पूछ रहे हैं ।
  4. मा के साथ सेक्स...नेक्स्ट डे सनडे था मनीषा ने सुबह उठ कर अपनी लेग्गी को थोड़ा नीचे कर दिया ताकि उसकी उभरी हुई चूत को मम्मी ने देख लिया तो उसकी वॉट लग जाएगी.... सुबह से वो कोई ना कोई तरकीब लगा रही थी ताकि उसको लौडा खाने को मिले.... पर नितिन को तो जैसे खजाना मिल गतहा, कच्ची चूत के अंदर लंड डालने के एहसास ने उसके जानवर को पूरी तरह से जिंदा कर दिया था और काव्या की याचना को नरंदाज करते हुए उसने अपने लंड का एक जोरदार झटका फिर से मारा और अगले ही पल वो पूरा का पूरा उसकी चूत के अंदर घुसता चला गया...
  5. ऑर फिर मनीषा की चूत की पलकें अशोक के लंड के सुपाडे से फिसल कर उसके सुपाडे से नीचे आ गयी थी.... उसको देख के लग रहा था जैसे चूत ने लंड को जाकड़ लिया हो... लंड के सुपाडे को क़ैद कर लिया हो.... और फिर नितिन ने अपने लंड के धक्के काव्या की चूत पर जोरों से दे मारे...और नीचे की तरफ़ लेटी हुई श्वेता उसकी चूत का बाहरी हिस्सा अपनी जीभ से चाट रही थी.....

सेक्सी ब्लू वीडियो ब्लू

म- आक्च्युयली उसने मुझे कुछ देर पहले कहा था कि मलयालम मे मुँह को चूत बोलते है ऑर केले को लंड.... तो मेने भी कह दिया कि भैया तो फिर डाल दो ना लंड मेरी चूत मे.....

रश्मि कुछ देर तक ऐसे ही लेटी रही ...और जब 2-3 मिनट के बाद उसने अपनी आँखे खोली तो एकदम से चिल्ला कर उठ बैठी.. मानिषा की चूत झटके खाते हुए उस शख्स की ऊँगली पर पानी छोड़ने लगी, मनीषा ने झरते हुए अपना पूरा वज़न अपने बेटे पर डाल दिया और अपने हाथ को बुहत ज़ोर से उस शख्स के लंड पर दबाते हुए मज़े से अपने होंठ अपने बेटे के काँधे पर दबा दिया ।

मा के साथ सेक्स,दो बार झड़ने के बाद ही तुरंत लंड को चूत के मुँह पर भिड़ाकर धर्मवीर ने पूजा के मन को टटोलते हुए पूछा - चुदने का मन है ..या रहने दें...बोलो ?

देखो यार अब मैं तुम्हारी गर्लफ्रेंड और तुम मेरे बॉयफ्रेंड हो इसीलिए शरमाना छोडो और बताओ कंचन ने अपने भाई को डांटते हुए कहा।

अब देवी लाल भी अपने नाटक पर उतर आया और लगभग रोते हुए बोला : बेटा , जब से तेरी माँ गयी है ना, मेरी तो हालत ही खराब है...तुझे मैं बता नही सकता की रातों को सोते हुए मेरी क्या हालत होती है...बड़ा मन करता है की किसी के साथ प्यार करू...कुछ करू..पर कुछ हो नही सकता...''एक्स एक्स सेक्सी वीडियो चुदाई

ऐसा कामुक दृश्य देखकर काव्या से रुका नही गया और उठकर उनके पास गयी और अपनी नर्म उंगलियों से नितिन के शरीर को सहलाती हुई वो उसकी दूसरी टाँग पर बैठ गयी और अपने चेहरे को भी उसने उन दोनो के बीच झोंक दिया.. नरेश अपनी माँ की चूत में बुहत ज़ोर से अपनी जीभ को अंदर बाहर करने लगा । मनीषा का पूरा जिस्म अपने बेटे की जीभ के अपनी चूत में अंदर बाहर होने से काँपते हुए अकडने लगा, मनीषा किसी भी वक्त झर सकती थी। उसके मूह से बुहत ज़ोर की सिसक़िया निकल रही थी।

और ये सब बाते सोचते-2 उसकी चूत इतनी बुरी तरह से गीली हो रही थी की उपर से बहता हुआ पानी भी उसकी चूत का गाडापन हल्का नही कर पा रहा था.

पूजा को धर्मवीर की यह सब बातें केवल एक सलाह लग रही थी जबकि वास्तव मे धर्मवीर के मन मे यह डर था कि अब पूजा को लंड का स्वाद मिल चुका है और वह काफ़ी गर्म भी है।,मा के साथ सेक्स श्वेता अपने कमरे मे पहुँची और अपने सारे कपड़े उतार कर एक कोने मे फेंके, गीले कपड़े से अपने चेहरे और बालों को सॉफ किया और फिर एक टी शर्ट और पायज़ामा पहन कर नीचे आ गयी.

News