विज्ञान सेक्स

മലയാളം പോണ് സൈറ്റുകള്

മലയാളം പോണ് സൈറ്റുകള്, उनकी लड़ाई में मेरे लंड का बुरा हाल था, क्योंकि अपने ऊपर हुए हमले का बदला रचना मेरे लंड को उतनी ही जोर से चूस कर और काट कर ले रही थी... इस बात पर दोनों हंस पड़े। जय का लंड अब तक अपनी सारी मलाई शालू की कटोरी में खाली कर चुका था। वो उठा और जा कर दरवाज़ा बंद कर दिया। फिर जय ने बताया कि वो अभी क्या गुल खिला के आये हैं।

समीर- अरे नहीं! ऐसे जबरन नहीं करना चाहिए। सही मूड बनना ज़रूरी है। और वैसे भी आज जीजा जी जल्दी आने वाले हैं। अभी उनका फ़ोन आया था। अगर दीदी से पहले उन्होंने देख लिया तो। उसने अब अपना लण्ड मेरे मुँह के और अन्दर धकेल दिया मैं और जोर जोर से चाटने लगी। वो एक बार फिर से मेरी की चूत चाटने लगा और अपने जीभ मेरी चूत में और भी जल्दी जल्दी और अन्दर-अन्दर डालने लगा।

दोस्तो, आपने पिछले भाग में पढ़ा कि शालू और विराज ने जय के साथ तिकड़ी जमी और तीनों ने मस्त चुदाई मस्ती की, लेकिन शीतल को ये सब पसंद नहीं आ रहा था इसलिए आखिर जय ने इस खेल से सन्यास ले लिया। മലയാളം പോണ് സൈറ്റുകള് उसके बाद में उसके आँसू पोछ कर उसे अपने सीने से लगा लेता हूँ और नीरा शमा के सिर पर हाथ फेरने लग जाती है....

देहाती बीपी सेक्सी

  1. इस तरह बातें करते करते दोनों बाहर आ चुके थे। सोनिया वहीं कुछ काम में लगी थी। उसने एक झीना सा गाउन पहना हुआ था जिसको ध्यान से देखो तो साफ समझ आता था कि वो अंदर नंगी ही थी। इन लोगों की बातें सुनकर उस से भी रहा नहीं गया।
  2. सच कहें तो इसमें कोई बुराई भी नहीं थी; दोनों अपने जीवनसाथी खो चुके थे, ऐसे में हर तरह से एक दूसरे का सहारा बन कर ज़िन्दगी काटना ही सही तरीका था। सेक्सी वीडियो गुजराती इंग्लिश
  3. अभी डिनर में थोड़ी देर थी और सब टीवी देख रहे थे कि तभी नेहा ने समीर को अपने पीछे पीछे बाहर आने का इशारा किया और बाहर टेरेस पर चली गई, समीर भी पीछे पीछे चला गया। मै अपना पैन्ट पहनते हुए वरुण के कमरे कि तरफ भागा | आगंतुक वरुण के पापा थे , मुझे उनकी आवाज सुनाई पड़ी - डार्लिंग , ..सो रही थी क्या ?... दरवाजा खोलने में बड़ी देर लगाई ..
  4. മലയാളം പോണ് സൈറ്റുകള്...आखिर उसने उन सब नए नए उपकरणों के साथ छेड़खानी करते हुए सारी सेटिंग्स आज़मा कर देखीं और बहुत देर तक नहाने के बाद जब वो बाथरूम से बहार निकला तो नेहा वहीं सामने खड़ी थी। रचना की गोरी गोरी चिकनी जाम्घें अपने हाथों से में ने फ़ैला दीं और झुक कर अपना मुंह बच्ची की लाल लाल कोमल गुलाब की कली सी चूत पर जमा कर चूसने लगा. अपनी जीभ से में उस मस्त बुर की लकीर को चाटने लगा.
  5. तब अचानक मुझे याद आया कि उसे भी अपने भाई की याद आ रही होगी। हम दोनों भाई-बहन की चुदाई देख कर उसका भी मन उसके भाई से चुदवाने को करता होगा। हमने उससे वादा भी किया था लेकिन हम अपने मज़े में इतने खो गए थे कि भूल ही गए। कामली--में देखना चाहूँगी आपकी पत्नी कितनी खूबसूरत है....अगली लड़की तभी आपके सामने आएगी जब में तुम्हारी पत्नी और मेरी लड़की की सुंदरता का मिलान कर लूँ....अगर किसी भी तरह आपकी पत्नी मेरी लड़की से कम निकलती है तो तब आप यहाँ से तशरीफ़ ले जा सकते है....क्योकि में वो लड़की ऐसे ही किसी को नही दे दूँगी....

पति और पत्नी का सेक्सी

अब समीर में अपनी माँ को देखने की ज्यादा चाहत जाग उठी थी। शीतल का एक नया मस्ताना रूप देखने की इस चाहत कि वजह से समीर से भी नहीं रहा गया, समीरने भी बाहर से माँ को पुकारा।

में--ठीक है 2 दिन बाद हम वहाँ वापस जाएँगे....मुझे आज एक जगह जाना है....नीरा तू शमा को अपने साथ रूम मे ले जा.... तब करमकौर के गाल शर्म से लाल हो उठे । उसे पहली बार लज्जा सी आ गयी । उसे पहली बार मानों ख्याल आया । वह अभी भी नग्न सी ही है । और तब उसने नकली हङबङाहट के साथ अपने स्तनों को कुर्ती के अन्दर कर लिया । प्रसून ने चेहरे पर आती रहस्यमय मुस्कराहट को फ़ौरन रोका । और बहुत हल्का सा सामान्य मुस्कराया ।

മലയാളം പോണ് സൈറ്റുകള്,उसके बाद मैंने कई रातें इस चक्कर में बिना सोए बिता दीं कि शायद फिर कुछ वैसा ही देखने को मिल जाए लेकिन कभी टाइमिंग सही नहीं बैठी।

मम्मी--ये तो बुरा हुआ जय....लेकिन उस बच्ची की खुश किस्मती से वो बच गयी वरना जाने क्या होता उसके साथ...

राधा- अरे मत पूछ। आज जैसा आनंद तो मुझे जीवन में आज तक नहीं मिला। तुम बहुत ही प्यार से कर रहे हो। मुझे दर्द महसूस तक नहीं होने दिया और 11 इंच का हलब्बी लौड़ा पूरा का पूरा मेरी चूत में उतार दिया... माँ ने कहा।मुसलमान की सेक्सी मुसलमान की सेक्सी

में--मम्मी एक बात बताओ जिस तरह से आपने हम सभी के पहली बार सिर मुंडवाने के टाइम पर जो बाल उतारे वो आपने आज भी संभाल कर रख रखे है....क्या वैसे ही पापा के बाल भी संभाले हुए है.... नेहा- आपको याद है आपने एक बार कहा था ‘शायद इसी को प्यार करना कहते हैं।’ मुझे वो फीलिंग समीर के साथ महसूस हुई है।

माँ ने दरवाजा खोला। माँ पूरी खिली हुई थी और महक रही थी। उसने आज सेक्सी गाउन पहन रखा था। हम तीनों मेरे कमरे में आ गये। कमरे में आते ही मैंने माँ की कमर में हाथ डाल दिया और अपना हाथ उसकी पीठ से फिराते हुए उसकी गाण्ड तक ले आया।

में--भाई वहाँ एक लड़की है नज़म....उसका ख्याल रखना बेचारी मासूम है....उसको ज़िंदगी जीने की सही राह दिखाना हो सके तो उसकी पढ़ाई का भी बंदोबस्त करवा देना....उन लड़कियों के पढ़ने लिखने और रहने खाने का जो भी खर्चा होगा वो में भरदूँगा....बस तुम संभाल कर उन सारी लड़कियो को उनकी सही जगह पर पहुँचा दो....,മലയാളം പോണ് സൈറ്റുകള് इसलिए एक बार फिर से मैने अपना चेहरा पायल दी की तरफ कर दिया और उनके भूखे होंठों पर टूट पड़ा… इस बार की किस नही बल्कि स्मूच थी, ऐसी स्मूच जिसमे मैने उनके अंदर की सारी लार को खींचकर अपने अंदर समेट लिया… पर फिर भी ना जाने कहाँ से लगातार उनके मुँह से मिठास बाहर आती जा रही थी.

News