बीएफ बीएफ फिल्म वीडियो में

सौतेली मां के साथ

सौतेली मां के साथ, हां! आइ लव यू निशा.. मुझे कल देखते ही तुमसे प्यार हो गया था... राका ने निशा का दूसरा हाथ भी अपने हाथ में ले लिया.. अब भी हुल्की हुल्की फुहारें इश्स नायाब जोड़ी को अपना आशीर्वाद दे रही थी.. लेनी है भाई.. लेनी है.. हम आपको अकेला कैसे छ्चोड़ेंगे.. आख़िर तक साथ निभाएँगे आपका.. मानव ने गिलास खाली करके पनीर का टुकड़ा मुँह में डालते हुए कहा...

कविता की टाँगें जैसे बीच में से काट जायेंगी... पर उसमें गजब की हिम्मत थी... उसने अपने मुँह में कंबल त्हूस लिया... पर टांगे नही हिलने दी मैदान से... सोचकर मानसी मुस्कुरा पड़ी.. कितनी अच्छी जोड़ी लगती है दोनो की... वा उल्टे पाँव मनु के कमरे में गयी.., भैया मुझे वाणी से मिलने जाना है.. एक बार साथ चल पड़ोगे क्या??

नीरू ने गर्दन नीचे करके अपना सिर 'ना' में हिला दिया.. वासू की जांघें उसकी जांघों के साथ सटा'ते ही उसके बदन में वासनात्मक सुगबुगाहट सी शुरू हो गयी थी... इस 'मस्ती' को और बढ़ाने के लिए उसने अपनी जांघें थोड़ी सी खोल कर वासू से और ज़्यादा चिपका दी... सौतेली मां के साथ पर नीरू तो किसी और चीज़ की प्यासी थी.. उसका रोग तो प्रेम रोग था, जो जड़ी बूटियों का नही, वासू की कृपा द्रस्टी का दीवाना था.. पर चलो, कुच्छ भी नही से कुच्छ ना कुच्छ ही सही, ठीक है सर... कह कर नीरू कमरे में आ गयी..

इंडियन बीपी दिखाइए

  1. प्रिया का रुदन अपनी हमराज को सामने देखते ही सामने आ गया, मैंने ग़लत किया रिया.. मैंने उसको खो दिया.. कहकर प्रिया फ़िर से रिया से जा चिपकी...
  2. राज ने देर ना करता हुए अपना लंड उसकी जड़ों में घुसा दिया और उसकी चूचियों से लिपट गया... उसको पता था अगर शिवानी का पानी निकल गया तो वा बुरा मुँह बना लेगी.. आगे करते हुए! सेक्सी कहानियां चुदाई वाली
  3. कोई नही है.. मेरी छ्चोड़ो.. तुम अपनी बात पूरी बताओ... गाड़ी बदल'ने के बाद क्या हुआ? राज बड़े गौर से स्नेहा की कहानी सुन रहा था... रात को खाना खाते समय सब गप्पें मार रहे थे जीजाजी भी आ गये थे अच्छे हैम्डसम पचीस साल के नौजवान हैं, काफ़ी छरहरा नाज़ुक किस्मा का बदन है, लगता नहीं कि रजत, उनके बड़े भाई होंगे, उनका शरीर तो एकदमा कसा हुआ गठा हुआ है
  4. सौतेली मां के साथ...मुझे नही खेलना दीदी.. चलो कुछ और खेलते हैं.. सच तो ये था की उसकी जांघों के बीच उसका लंड इतनी बुरी तरह फेडक रहा था की उसको 'खिलाए' बिना दिमाग़ कही और लग ही नही सकता था.. लंबी चुदाई के बाद वे जब झडे तो आनंद से उनके मुँह से हिचकी निकल आई मैं लगा हुआ था, मेरा लंड ऐसा तना था कि मुझे चुप नहीं बैठने दे रहा था पर उनका लंड सिकुड कर मेरी गान्ड से निकल आया अब मैं कुछ बोल भी नहीं पा रहा था, बस उनकी ओर कातर दृष्‍टि से देख रहा था कि मुझे मुक्ति दें
  5. मुझे भागना होता तो मैं तुम्हारे साथ आती ही क्यूँ? स्नेहा के चेहरे पर अब सुकून झलक रहा था... विकी को ये बताकर की वो उसकी फ़ितरत जान चुकी है.. सॉरी मिस...? मैं पीछे देख नही पाया.. आइ आम टू सॉरी विकी ने अपनी आँखों से 'रेबन' का ड्युयल पोलेराइज़्ड गॉगल्स उतारते हुए कहा.

सेक्सी वीडियो भेजिए ब्लू

Raj ka sath chalne ka bahut mann tha.. uske toh sare armaan hi dhare ke dhare rah gaye.. usne Viru ki aur dekha...

बातों ही बातों में स्नेहा ने अपना घुटना आगे करके विकी की जाँघ से सटा दिया... घुटने से करीब 4 इंच उपर स्नेहा की जाँघ पर काला सा तिल था... पगली.. रो क्यूँ रही है..? हम फिर आ जाएँगे मिलने.. मिलते रहेंगे.. मोहन को बोल देना.. हर हफ्ते हमसे मिलाने लाया करे.. चुप हो जा.. पागल! वीरू ने उसके गालों से आँसू पौंचछते हुए कहा...

सौतेली मां के साथ,देख रिया.. आज पापा भी गहरी नींद में होंगे.. प्लीज़ जाने दे ना! ... मैं बस 5 मिनिट मैं आ जाउन्गि... प्रिया ने उसके कान में धीरे से कहा...

Achanak darwaje par 'khansne' ki aawaj ke sath dono ekdum chhitak kar ek dusre se door ho gaye.. Bedroom ke darwaje par khadi Neeru bahar dekhte huye muskura rahi thi..

प्यारी ने 11 बजे लड़कियों को डाइनिंग हाल में आने का टाइम दे दिया.. सुबह के.. उसने बताया की आज कोई ट्रिप नही होगी... आज उनसे कुछ ज़रूरी बातें करनी है... ज़रूरी बात सब लड़कियों को पता थी...ब्लू हिंदी वीडियो सेक्सी

दिशा उठकर चली गयी और अपनी खाट पर जाकर लेट गयी. काश! सर मुझे ज़बरदस्ती अपने बेड पर ले जाते. वाणी कितनी खुसकिस्मत है. सोचते सोचते उसने आँखें बंद कर ली. उसके दिमाग़ में कुच्छ चल रहा था. अजीत गंभीर होकर शमशेर की और देखने लगा, दिशा का नाम आते ही उसको शमा याद आ गयी, शमशेर की शमा... जिसके लिए शमशेर ने अपना नाम दीपक से शमशेर कर लिया.... शमा;शमशेर.... अजीत अतीत में खो गया!

स्कूल-ट्रिप की बात सुनकर सभी के चेहरे खिल गये... सभी खुशी से झूम उठे.. सिवाय एक चेहरे के.. उसकी मुस्कान तो अब मोहन ही वापस ला सकता था.. जिसका वजूद ही इश्स दुनिया में नही था कहीं...

निदा ‘सिस्कार’ कर कुछ अकड़ सी गई और अपनी मुट्ठी में मेरी जाँघ दबोच ली। अब नितिन ने उसके नितम्बों के नीचे से हाथ डाल कर उसकी जाँघें दबा लीं और अपनी थूथुन निदा की चूत में घुसा कर उसे चाटने और कुरेदने लगा।,सौतेली मां के साथ शिवानी ने उसको क्रितग्य नज़रों से देखा और उसके हाथ से कपड़े ले लिए..., आप को कुछ पता है... मेरे बारे में!

News